कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर दिल्ली में राजनीति शुरू

0
161
कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर दिल्ली में राजनीति शुरू
दिल्ली डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया

राजधानी दिल्ली। एक तरफ जहां कोरोना से पीड़ित मरीज स्वास्थ्य के लिए दर-दर भटक रहे हैं वही नेता अपनी राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं, पहले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने यह कहकर सबको चौंका दिया कि दिल्ली में केवल दिल्ली वासियों का ही इलाज हो सकता है.

जिसके बाद दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने केजरीवाल के फैसले को पलटते हुए नया आदेश जारी किया तथा कहा कि दिल्ली में किसी भी व्यक्ति का इलाज हो सकता है दिल्ली किसी की नहीं है।

एलजी के फैसले के बाद केजरीवाल का बयान आया सामने

केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा है कि ”एलजी साहिब के आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है, देशभर से आने वाले लोगों के लिए करोना महामारी के दौरान इलाज का इंतजाम करना बड़ी चुनौती है, शायद भगवान की मर्जी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें हम सब के इलाज का इंतजाम करने की कोशिश करेंगे”

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने क्या कहा

वहीं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि” बीजेपी के दबाव के कारण उपराज्यपाल नई दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के फैसले को बदला है, बीजेपी राज्य सरकारों की नीतियों को विफल करने की कोशिश कर रही है”

बीजेपी नेता राजीव प्रताप रूडी ने कहा संविधान के खिलाफ है केजरीवाल का फैसला

वहीं बीजेपी के नेता राजीव प्रताप रूडी ने कहा है कि अरविंद केजरीवाल एक अराजकतावादी नेता हैं, दिल्ली में दिल्ली वालों का ही इलाज करने का फैसला उनकी अराजकतावादी सोच को दर्शाता है, केजरीवाल का फैसला संविधान के खिलाफ है वह पहले भी बाहर के लोगों का अपमान कर चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here