- Advertisement -
Home Blog

बाबरी मस्जिद की जगह स्कूल और अस्पताल बने: वसीम रिजवी

0
बाबरी मस्जिद की जगह स्कूल और अस्पताल बने: वसीम रिजवी
svb chairman waseem rizvi with champat rai

अयोध्या : शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने अयोध्या में अदालत फैसले के बाद बाबरी मस्जिद के लिए मिली 5 एकड़ जमीन पर विद्यालय तथा अस्पताल खोलने की मांग की है। वसीम रिजवी ने साथ ही राम मंदिर बनने का स्वागत किया है, वसीम रिजवी ने कारसेवकपुरम में श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय से मुलाकात की जिसमें उन्होंने कहा कि मंदिर हिंदुओं का था उन्हें उनका हक मिला ।

ओवैसी को बताया बगदादी

ओवैसी के बारे मैं वसीम रिजवी से पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि ”ओवैसी हिंदुस्तान के अबू बकर बगदादी हैं इससे ज्यादा हम उन्हें कुछ और नहीं समझते” हम चाहते थे की बिना अदालती फैसले के यह मंदिर हिंदुओं को दिया जाता जिससे कि आने वाली पीढ़ियां भी भाईचारे को समझती तथा हिंदू और मुस्लिम विवाद खत्म होने में यह सहायक होता। साथ ही वसीम रिजवी ने अदालती फैसले की तारीफ की और कहा कि जिस का हक था उसे मिला।

मस्जिद की जगह विद्यालय और अस्पताल खोलने की मांग की

वसीम रिजवी ने कहा कि अयोध्या की जमीन पर अब कोई नई मस्जिद उचित नहीं है लेकिन यह सुन्नी वक्फ बोर्ड का मामला है जो उन्हें उचित लगता है वह करें। अगर यह मामला शिया वक्फ बोर्ड का होता तो हम कभी अयोध्या की सीमा के अंदर मस्जिद नहीं बनाते, हमने सुन्नी वक्फ बोर्ड को राय दी है कि फैसले में मिली जमीन पर अस्पताल और विद्यालय खोले जाएं जिसमें सभी धर्मों के लोगों को शिक्षा और इलाज मिले।

शुक्रिया मोदी भाई: जान मुस्लिम महिलाओं ने तीन तलाक बिल के लिए दिया मोदी को धन्यवाद

0
शुक्रिया मोदी भाई: जान मुस्लिम महिलाओं ने तीन तलाक बिल के लिए दिया मोदी को धन्यवाद
primeminister narendra modi meeting muslim females

तीन तलाक बिल : केंद्र की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी की सरकार द्वारा प्रताड़ित मुस्लिम महिलाओं के लिए लाया गया तीन तलाक बिल को लाए करीब एक वर्ष पूरा हो गया है। इस एक वर्ष के पूरे होने पर देशभर से मुस्लिम महिलाओं ने वीडियो संदेश जारी करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रिया कहा है। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ट्वीट करके इस बारे में जानकारी दी है।


पिछले वर्ष जुलाई में आया था तीन तलाक बिल


बीजेपी सरकार ने पिछले वर्ष जुलाई के महीने में मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक (तिलाके-बिद्दत) जैसी कुप्रथा से बचाने के लिए मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक संसद के दोनों सदनों में पारित कराया था जिसके बाद भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस विधेयक को 1 अगस्त 2019 को मंजूरी दे दी थी इसी के साथ यह बिल कानून बन गया था, यह कानून बनने के बाद तीन तलाक गैरकानूनी हो गया था तथा इसमें सजा और जुर्माना दोनों का प्रावधान रखा गया था।

82% कम हुए तीन तलाक के मामले


केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने साथ में यह भी बताया कि जब से तीन तलाक का कानून लागू हुआ है तब से मुसलमानों में तीन तलाक के मामलों में 82% की कमी आई है, भारतीय जनता पार्टी 31 जुलाई को मुस्लिम महिला अधिकार दिवस का कार्यक्रम अपने मुख्यालय में आयोजित करेगी, तीन तलाक कानून आने के बाद जुलाई का महीना मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप में दर्ज किया गया है।

मोदी ने 29 साल तक निभाई यह तपस्या! मंदिर आंदोलन के समय कही थी ये बात

0
मोदी ने 29 साल तक निभाई यह तपस्या! मंदिर आंदोलन के समय कही थी ये बात

अयोध्या । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आने वाले 5 अगस्त को अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर की नींव रखने वाले हैं इस समय जब मोदी अयोध्या पहुंचेंगे तो उनकी 29 साल 11 महीने की वह तपस्या भी समाप्त हो जाएगी जिसका वादा उन्होंने राम मंदिर आंदोलन के दौरान 1991 में किया था। मोदी का वो वादा 5 अगस्त को पूरा हो जाएगा मोदी इससे पहले फैजाबाद में तथा अयोध्या के 25 किलोमीटर दूर तक चुनावी रैलियों के दौरान जा चुके हैं मगर पिछले 29 साल से मोदी ने अयोध्या में कदम नहीं रखा है।


किससे और क्या कहा था मोदी ने?


बात 90 के दशक की है जब राम मंदिर बनाने के लिए बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने रथ यात्रा का आयोजन किया था, उसी समय 1991 में मोदी बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी के साथ अयोध्या पहुंचे थे तब मोदी ने महेंद्र त्रिपाठी नाम के एक फोटोग्राफर द्वारा सवाल पूछने पर ‘कि अब अयोध्या कब आएंगे? जवाब दिया था कि जब राम मंदिर निर्माण होगा।


और क्या बताया महेंद्र त्रिपाठी ने?

महेंद्र त्रिपाठी कि उस समय फोटोग्राफी की दुकान थी तथा महेंद्र त्रिपाठी वीएचपी से जुड़े हुए थे जो पुरानी तस्वीरें वायरल हो रही है जिनमें मोदी आडवाणी तथा जोशी के साथ रथ पर नजर आ रहे हैं वह महेंद्र त्रिपाठी ने ही खींची हैं। महेंद्र त्रिपाठी बताते हैं कि ”मुरली मनोहर जोशी उस समय बीजेपी के बड़े नेता थे उन्होंने मोदी को गुजरात नेता के रूप में मुझ से मिलवाया था” त्रिपाठी आगे कहते हैं कि ”मोदी बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी के साथ अप्रैल 1991 में अयोध्या आए थे और उन्होंने विवादित क्षेत्र का दौरा किया था। मेरे द्वारा पूछे जाने पर कि अयोध्या अब कब आएंगे? मोदी ने कहा था कि जब मंदिर निर्माण होगा। आपको बता दें कि मोदी उस समय गुजरात बीजेपी के तत्कालीन सांगठनिक सचिव थे।

ओवैसी पर भड़की यह एक्ट्रेस:पूछा संसद में टोपी पहनना सांप्रदायिक नहीं है?

0
ओवैसी पर भड़की यह एक्ट्रेस:पूछा संसद में टोपी पहनना सांप्रदायिक नहीं है?
politician owaisi and actress koena mitra in the picture

समाज: ओवैसी द्वारा भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले भव्य श्री राम मंदिर के भूमि पूजन में शामिल होने पर सवाल उठाने के बाद बॉलीवुड की एक्ट्रेस कोएना मित्रा ओवैसी पर भड़क गई है। कोएना मित्रा ने ओवैसी के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा है कि क्या संसद भवन में सर पर टोपी पहनना सांप्रदायिक नहीं है?। कोएना मित्रा बिग बॉस 13 में भाग लिया था तथा वह अपना सपना मनी मनी फिल्म के लिए भी जानी जाती है।

क्या कहा कोएना मित्रा ने?

ओवैसी द्वारा प्रधानमंत्री मोदी के भूमि पूजन में शामिल होने पर सवाल उठाने पर कोएना मित्रा ने ओवैसी के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा है कि ”संसद भवन में सर पर टोपी पहनना सांप्रदायिक नहीं है बल्कि भूमि पूजन में भाग लेना है, 40000 मंदिरों को अपराधियों द्वारा तोड़ा गया तथा लूट कर नष्ट कर दिया गया अगली पीढ़ियों को भी इस बारे में पता चल जाएगा। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री का इफ्तार में शामिल होना सांप्रदायिक नहीं है, यदि पाखंड और दुस्साहस का एक नाम था”।

क्या कहा था ओवैसी ही नहीं?

जब से अयोध्या में 5 अगस्त को भूमि पूजन की खबर आई है तभी से मंदिर विरोधी लोग इस पर सवाल उठा रहे हैं, लोगों को मिर्ची तो तब लगी जब प्रधानमंत्री आधिकारिक तौर पर इसमें शामिल होने वाले हैं। इसी पर हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने ट्वीट करके कहा कि ”प्रधानमंत्री का आधिकारिक रूप से भूमि पूजन में शामिल होना संवैधानिक शपथ का उल्लंघन होगा, धर्मनिरपेक्षता संविधान की मूल संरचना का हिस्सा है। हम यह नहीं भूल सकते कि बाबरी 400 साल से अधिक समय तक अयोध्या में रही और 1992 में अपराधिक भीड़ द्वारा इसे ध्वस्त कर दिया गया” ।

जानें क्यों ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है कहीं पूजन कहीं सूजन?

0
जानें क्यों ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है कहीं पूजन कहीं सूजन?
god ram sita and hanuman in the picture

राम मंदिर : जब से अयोध्या में भगवान श्री राम के मंदिर की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 5 अगस्त को नीव रखे जाने की बात सामने आई है तभी से हिंदू तथा मंदिर विरोधी सभी लोग टीवी चैनलों पर बैठकर तथा सोशल मीडिया पर भूमि पूजन से जुड़ी हुई चीजों पर आपत्तिजनक बातें तथा अनावश्यक चीजें लिख रहे हैं। चाहे ओवैसी द्वारा मोदी के अयोध्या जाने पर सवाल उठाना हो या सीपीएम द्वारा दूरदर्शन पर भूमि पूजन के लाइव टेलीकास्ट पर आपत्ति दर्ज करना हो मंदिर विरोधी लोगों को यह बात हजम नहीं हो रही है। इसी सिलसिले में ट्विटर पर हेस्टैग कहीं पूजन कहीं सूजन ट्रेड कर रहा है, ट्विटर पर लोग इस #का इस्तेमाल कर कर मंदिर विरोधी लोगों के मजे ले रहे हैं करीब 18000 लोग खबर लिखे जाने तक # का इस्तेमाल कर चुके हैं।

ओवैसी ने उठाया मोदी के अयोध्या जाने पर सवाल

हैदराबाद के AIMIM पार्टी के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री मोदी के अयोध्या जाने पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया है कि” मोदी का भूमि पूजन में जाना संविधानिक शपथ के खिलाफ होगा तथा संविधान के सेकुलर स्ट्रक्चर का वायलेशन होगा” हालांकि ओवैसी यह ट्वीट करते समय यह भूल गए कि पूर्व में भी कितने प्रधानमंत्री तथा बड़े पदों पर नियुक्त राजनेता विशेष समुदाय के धार्मिक समारोह में हिस्सा ले चुके हैं, और अगर मोदी प्रधानमंत्री है भी तो क्या वह अपनी आस्था तथा हिंदू होने के नाते भूमि पूजन में हिस्सा क्यों नहीं ले सकते? संविधान खुद हमें अपनी आस्था को मानने की आजादी प्रदान करता है।

सीपीएम ने उठाया लाइव टेलीकास्ट पर सवाल

दुनिया भर के विरोध के बीच सीपीएम ने भी 5 अगस्त को भूमि पूजन के समय का दूरदर्शन पर टेलीकास्ट करने पर आपत्ति दर्ज की है, हालांकि सीपीएम का यह दोहरा चरित्र तब सामने नहीं आया जब इसी दूरदर्शन चैनल पर वेटिकन सिटी में आयोजित हो रहे ईसाइयों के समारोह को लाइव दिखाएं गया है। सीपीएम ने इसे सेकुलरिज्म के खिलाफ बताया था इन्हीं दोयम दर्जे की हरकतों को देखकर लोग सोशल मीडिया पर अलग-अलग तरह से इन लोगों के मजे ले रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी इस # का इस्तेमाल किया है तथा एक वीडियो साथ में अटैच किया है जिसमें वह इन लोगों के मजे लेते नजर आ रहे हैं।

भारतीय क्रिकेटर अजिंक्य रहाणे ने इस शॉट को बताया अपना फेवरेट

0
भारतीय क्रिकेटर अजिंक्य रहाणे ने इस शॉट को बताया अपना फेवरेट
indian cricketer ajinkya rahane picture

क्रिकेट। कोरोना वायरस के कारण रुका हुआ क्रिकेट अब अब शुरू होने जा रहा है बीसीसीआई इस बार ऑस्ट्रेलिया में होने जा रहे टी-20 वर्ल्ड कप के स्थगित होने के बाद अब आईपीएल का आयोजन यूएई में कराने जा रहा है जिसकी शुरुआत 19 सितंबर से होने वाली है। क्रिकेट शुरू होने से पहले ठीक खिलाड़ी उत्साहित नजर आ रहे हैं भारतीय टेस्ट टीम के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो डाल कर अपना फेवरेट शॉट बताया है।

तस्वीर में देखें रहाणे का फेवरेट शॉट

स्ट्रेट ड्राइव

अजिंक्य रहाणे ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें वह स्टेट ड्राइव खेलते नजर आ रहे हैं इस तस्वीर में आप उनके शॉट की झलक देख सकते हैं इंस्टाग्राम पर रहाणे दे वीडियो के साथ लिखा है फेवरेट शॉट

दिल्ली की टीम में है अजिंक्य रहाणे

भारतीय टीम के क्लासिक बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे ने अपना पूरा आईपीएल कैरियर करीब राजस्थान रॉयल की टीम में गुजारा है। एक सीजन में वह पुणे सुपरजाइंट्स में भी खेल चुके हैं मगर इस बार दिल्ली कैपिटल्स ने उन्हें ट्रेड करके लिया है। रहाणे के भारतीय क्रिकेट में कैरियर की बात करें तो उन्होंने भारतीय टीम की तरफ से 65 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 4203 रन बनाए हैं इसी तरह क्रमशः 90 वनडे में 2962 रन और 20 T20 मैच में 375 रन का योगदान दिया है।

आखिरकार मुंबई पुलिस ने की महेश भट्ट से पूछताछ: बयान दर्ज

0
आखिरकार मुंबई पुलिस ने की महेश भट्ट से पूछताछ: बयान दर्ज
mahesh bhatt at the police station in black t shirt

मुंबई: बॉलीवुड के कलाकार सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमई मौत के बाद मुंबई पुलिस मौत की वजह जानने के लिए अलग-अलग लोगों से पूछताछ कर रही है, इसी सिलसिले में आज मुंबई पुलिस ने महेश भट्ट से करीब 2 घंटे पूछताछ की है और उनके बयान दर्ज कर लिए गए हैं, साथ ही करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शन के सीईओ अपूर्व मेहता से भी मुंबई पुलिस अभी पूछताछ करने वाली ,है हाल ही में मुंबई पुलिस ने महेश भट्ट तथा अपूर्व मेहता को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा था।

गुटबाजी की जांच करेगी पुलिस

सुशांत राजपूत की आत्महत्या के बाद देशभर में लोग सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं हालांकि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख सीबीआई जांच से मना कर चुके हैं, बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने अभी एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में मुंबई पुलिस पर आरोप लगाया था कि करण जौहर आदित्य चोपड़ा जैसे लोगों से मुंबई पुलिस पूछताछ नहीं कर रही है। इन लोगों की गुटबाजी तथा सुशांत सिंह राजपूत को कॉन्ट्रैक्ट के जाल में फंसा कर दूसरे डायरेक्टर्स के साथ काम नहीं करने दिया गया था इसलिए सुशांत सिंह राजपूत परेशान चल रहे थे, कंगना ने महेश भट्ट को भी खूब खरी-खोटी सुनाई थी।

सभी संबंधित लोगों से हो रही है पूछताछ

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के पीछे आरोपों के मुताबिक जो सबसे बड़ा कारण है वह यह निकल के आ रहा है कि बॉलीवुड के यश राज फिल्म्स तथा धर्मा प्रोडक्शन जैसे बैनारों ने सुशांत सिंह राजपूत को बाहर के डायरेक्टर्स के साथ फिल्में करने से रोका था। इसी सिलसिले में मुंबई पुलिस आदित्य चोपड़ा, संजय लीला भंसाली, रूमी जाफरी तथा फिल्म क्रिटिक राजीव मसंद से पूछताछ कर चुकी है। संजय लीला भंसाली भी अपने बयान में यह बता चुके हैं कि उन्होंने रामलीला, पद्मावत तथा बाजीराव मस्तानी जैसी फिल्मों के लिए सुशांत सिंह राजपूत को अप्रोच किया था मगर यशराज फिल्म के साथ कांटेक्ट होने की वजह से वह उनके साथ काम नहीं कर सके। संजय लीला भंसाली और आदित्य चोपड़ा के बयानों में मुंबई पुलिस को अंतर भी नजर आया है।

बॉलीवुड में एक पूरा गैंग मेरे खिलाफ काम कर रहा है: एआर रहमान

0
बॉलीवुड में एक पूरा गैंग मेरे खिलाफ काम कर रहा है: एआर रहमान
oscar winning music director a r rahman

फिल्म जगत : बॉलीवुड कलाकार सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमई मौत के बाद बॉलीवुड के गुटबाजी तथा भाई भतीजावाद की पोल खुलती जा रही है। सुशांत की मौत के बाद तमाम कलाकारों ने बॉलीवुड के अंदर हो रहे गलत कामों पर आकर खुलकर बोला है। अभी कुछ दिनों पहले ही सोनू निगम ने भी टी सीरीज के भूषण कुमार पर गायकों का शोषण करने के आरोप लगाए थे, अब ऑस्कर अवॉर्ड जीतने वाले म्यूजिक डायरेक्टर ए आर रहमान ने रेडियो मिर्ची से बात करते हुए कहा है कि बॉलीवुड में एक पूरा गैंग है जो मेरे खिलाफ काम कर रहा है तथा मेरे बारे में गलत अफवाह फैलाई जा रही है जैसे कि बॉलीवुड में ए आर रहमान को काम नहीं मिल रहा है।

दिल बेचारा के डायरेक्टर का दिया हवाला

ए आर रहमान ने अपनी की बातचीत में सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म दिल बेचारा को डायरेक्ट करने वाले डायरेक्टर मुकेश छाबरा का नाम लेकर कहा कि, जब मुकेश मेरे पास आए तो उन्होंने मुझे बताया कि लोग उनसे कहते थे की ए आर रहमान के पास मत जाना और मेरे बारे में तरह-तरह की कहानियां सुनाते थे, मुकेश मेरे पास आए मैंने 2 दिन के अंदर उन्हें गाना करके दिया मैं अच्छी फिल्मों को मना नहीं करता हूं।

सब ईश्वर के जरिए मिलता है

म्यूजिक डायरेक्टर ए आर रहमान ने कहा कि मुकेश के बताने के बाद मुझे पता चला कि अच्छी फिल्में मेरे पास क्यों नहीं आ रही है, यह ग्रुप मेरे बारे में अफवाहें फैला रहा है मगर मुझे पता है कि सब ईश्वर के जरिए ही मिलता है यह लोग जानकर मेरे बारे में गलत अफवाह फैला रहे हैं। सामने यह लोग चाहते हैं कि मैं काम करूं मगर यही लोग मेरे बारे में अफवाहें फैलाते हैं जिस वजह से अच्छी फिल्में मेरे पास तक नहीं पहुँचती ।

गलवान झड़प वाले चीनी जनरल झाओ की विदाई शर्मिंदगी है वजह

0
गलवान झड़प वाले चीनी जनरल झाओ की विदाई शर्मिंदगी है वजह
general zhao zongqi with xi jinping

चीन । भारत के साथ सीमा पर विवाद तथा गलवान घाटी में खूनी झड़प की पूरी प्लानिंग करने वाले चीनी सेना की वेस्टर्न थिएटर कमांड के लेफ्टिनेंट जनरल झाओ जोंगकी को चीनी सरकार ने हटाने की प्लानिंग कर ली है उनकी जगह जनरल ल्यू जैनली को लाने का विचार किया जा रहा है। जनरल जाओ ही वही शख्स है जिन्होंने भारत के साथ सीमा विवाद में अहम भूमिका निभाई है, खबरों के मुताबिक जनरल जाओ भारत के लद्दाख इलाके पर कब्जा करके चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को खुश करना चाहते थे तथा अपने पद को और ऊपर ले कर जाना चाहते थे।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी है वजह

चीनी सेना की वेस्टर्न कमांड के जनरल झाओ की विदाई के पीछे विशेषज्ञ भारत के साथ झड़प में चीनी सेना की नाकामी की वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चीनी सेना को शर्मिंदगी झेलनी पड़ रही है अर्थात विश्व भर में चीनी सेना की बदनामी हो रही है इसी वजह से जनरल जाओ की विदाई की जा रही है। भारत के साथ झड़प में चीनी सेना के करीब 40 से ऊपर जवान मारे गए थे हालांकि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का मीडिया पर नियंत्रण होने की वजह से सही जानकारी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपलब्ध नहीं हो पाती है। जनरल झाओ भारत के साथ दबाव डालकर लद्दाख एरिया पर कब्जा करना चाहते थे मगर भारतीय सेना के मुंह तोड़ जवाब की वजह से चीनी सेना को बहुत नुकसान उठाना पड़ा तथा चीनी सेना का यह कदम कम्युनिस्ट पार्टी के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी की वजह बना।

युद्ध का अनुभव है जनरल झाओ को

लेफ्टिनेंट जनरल झाओ को वियतनाम युद्ध का अनुभव है, युद्ध के दौरान उनकी सफल नीतियों की वजह से जनरल जाओ को चीनी सेना में काफी सम्मान प्राप्त है तथा उन्होंने कई अहम पदों पर जिम्मेदारियां संभाली हैं। 2017 में भूटान के इलाके डोकलाम में हुए विवाद के पीछे भी जनरल झाओ का ही दिमाग था। उस समय भी भारतीय सेना चीनी फौज के आगे अड़ गई थी जिसके बाद चीनी फौज को पीछे हटना पड़ा था तब भी जनरल झाओ की रणनीति फेल हुई थी यही वजह है कि कम्युनिस्ट पार्टी अब उन्हें भारत के साथ विवाद से अलग रखना चाहती है।

जंग के मैदान को दुनिया से एक कदम आगे अंतरिक्ष में ले पहुंचा रूस

0
जंग के मैदान को दुनिया से एक कदम आगे अंतरिक्ष में ले पहुंचा रूस
picture of space satellite

मॉस्को: रूस हमेशा से दुनिया का एक ताकतवर देश रहा है चाहे उसकी परमाणु क्षमता हो या उसकी सैन्य ताकत या उसके एडवांस हथियार रूस दुनिया में ताकत के मामले में अपना लोहा मनवा चुका है, अब रूस जंग के मैदान को दुनिया से एक कदम आगे जाकर अंतरिक्ष में ले पहुंचा है, पिछले 15 जुलाई को रूस ने अंतरिक्ष में एंटी सैटलाइट मिसाइल छोड़कर अपने ही एक सैटेलाइट को नष्ट कर दिया जिसके बाद अमेरिका ने रूस पर अंतरिक्ष में मिसाइल परीक्षण का आरोप लगाया है तथा इसे खतरनाक बताया है.

अमेरिकी स्पेस कमान के जनरल ने लगाया आरोप

अमेरिकी स्पेस कमान के जनरल जय रेमंड ने कहा है कि अमेरिकी खुफिया विश्लेषक लगातार रूसी उपग्रहों पर नजर रखे हुए थे, इसी बीच पिछले 15 जुलाई को रूस ने अंतरिक्ष में अपने सैटेलाइट कॉसमॉस 2542 पर अपने ही अन्य सेटेलाइट कॉसमॉस 2543 से मिसाइल हमला करके उसे नष्ट कर दिया, जनरल जैन ने कहा कि रूस के इस कदम से अमेरिका और उसके सहयोगीयों के अंतरिक्ष में मौजूद उपग्रह के लिए खतरा पैदा हो गया है, यह पहली बार है जब अमेरिका ने रूस पर अंतरिक्ष में एंटी सेटेलाइट वेपन परीक्षण का आरोप लगाया है.

अंतरिक्ष में हथियार भेज रहा है रूस

अमेरिका की स्पेस फोर्स के जनरल जय रेमंड तथा समर्थक इस बात का आरोप लगा रहे हैं कि रूस अंतरिक्ष में ऐसे सेटेलाइट भेज रहा है जो कि हथियारों से लैस हैं, रूस अंतरिक्ष में कक्षा के अंदर अपनी क्षमताएं विकसित कर रहा है जिसका मतलब हमारी अंतरिक्ष आधारित प्रणाली का शोषण हो रहा है, रूस के इस कदम से जापान तथा ब्रिटेन भी चिंतित नजर आ रहे हैं, ब्रिटेन ने रूस के इस कदम की निंदा करते हुए इसे खतरनाक बताया है.

CAA से बचने के लिए ईसाई धर्म अपनाकर भारतीय नागरिकता ले रहे रोहिंग्या मुस्लिम

0
CAA से बचने के लिए ईसाई धर्म अपनाकर भारतीय नागरिकता ले रहे रोहिंग्या मुस्लिम
rohingya muslims in picture

नई दिल्ली: केंद्रीय एजेंसियों द्वारा सरकार को दिया गया अलर्ट भारत सरकार के लिए कान खड़े करने वाला हैं, अफगानिस्तान तथा म्यांमार से आए रोहिंग्या मुस्लिम भारत सरकार द्वारा लागू नागरिकता संशोधन कानून से बचने के लिए तथा भारतीय नागरिकता पाने के लिए मुस्लिम धर्म छोड़कर ईसाई धर्म अपना रहे हैं, केंद्रीय एजेंसियों के मुताबिक करीब 25 लोग ईसाई धर्म अपनाकर भारतीय नागरिकता हासिल कर चुके हैं, भारत में नागरिकता संशोधन कानून लागू होने के बाद भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान बांग्लादेश अफ़गानिस्तान के रहने वाले माइनॉरिटी के लोग ही भारत में नागरिकता प्राप्त कर सकते हैं इसी कानून से बचने के लिए रोहिंग्या मुस्लिम ईसाई धर्म अपनाकर भारतीय नागरिकता हासिल कर रहे हैं यह खबर वाकई में चिंतित करने वाली है.

क्या कहता है नागरिकता संशोधन कानून?

भारत सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून मैं यह स्पष्ट किया है कि पाकिस्तान अफगानिस्तान तथा बांग्लादेश मैं रहने वाले माइनॉरिटी के सदस्य जिनके साथ इन देशों में गलत व्यवहार तथा पीड़ित किया जाता है जिनमें हिंदू सिख ईसाई शामिल है वह भारत में नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं, भारत सरकार ने इस कानून में इन तीनों देशों की मेजॉरिटी को शामिल नहीं किया था जिसकी वजह से भारत में भी तमाम राजनीतिक पार्टियों ने केंद्र सरकार का विरोध किया था तथा देश भर में धरने प्रदर्शन हुए थे जिसका परिणाम दिल्ली में हिंदू विरोधी दंगों के रूप में सामने आया था.

बड़ी संख्या में भारत में है रोहिंग्या

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक करीब 40,000 रोहिंग्या मुस्लिम भारत में शरण लिए हुए हैं जिनकी अधिकतर आबादी जम्मू-कश्मीर में बसी हुई है, साथ ही करीब डेढ़ लाख से लेकर 1.60000 तक अफगानिस्तानी मुसलमान भी दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में रह रहे हैं.

अमेरिका ने चीन से महावाणिज्य दूतावास बंद करने को कहा भड़का चीन

0
अमेरिका ने चीन से महावाणिज्य दूतावास बंद करने को कहा भड़का चीन
chinease ambassy in houston

ह्यूस्टन : अमेरिका और चीन के बीच में चल रहा तनाव और बढ़ता जा रहा है व्यापार से लेकर समुंद्री मसलों को लेकर दोनों देश एक दूसरों के आमने सामने खड़े है, वही अब अमेरिका ने चीन के ह्यूस्टन स्थित महावाणिज्य दूतावास को 72 घंटे के अंदर बंद करने को कहा है, जिसके बाद चीन भड़क उठा है हालांकि अमेरिका ने यह कदम किस वजह से उठाया यह अभी साफ नहीं हो पाया है मगर चीन ने अमेरिका को इसका बदला लेने की धमकी दी है.

दूतावास मैं दस्तावेज जलाते दिखे चीनी कर्मचारी

अमेरिका द्वारा चीन के महावाणिज्य दूतावास को 72 घंटे के अंदर बंद करने के आदेश जारी करने के बाद चीनी दूतावास के अंदर अफरा-तफरी का माहौल देखा गया, साथ ही एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी हुआ है जिसमें चीनी अधिकारी गोपनीय दस्तावेज जलाते हुए नजर आ रहे हैं, इमारत से धुआं निकलते देख वहां फायर डिपार्टमेंट की गाड़ियां भी पहुंच गई मगर वह दूतावास के अंदर नहीं गई लोग सोशल मीडिया पर वीडियो देखने के बाद सवाल कर रहे हैं कि, आखिर चीनी अधिकारी कौन से दस्तावेज जला रहे हैं और क्यों जला रहे हैं?

चीनी विदेश मंत्रालय ने दी प्रतिक्रिया

अमेरिका द्वारा चीनी महावाणिज्य दूतावास को 72 घंटे के अंदर बंद करने के आदेश के बाद चीन बिफर गया है, चीन के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करके अमेरिका के इस कदम की निंदा की है, चीन ने कहा है कि अगर अमेरिका ने इस कदम को वापस नहीं लिया तो वह न्याय उचित और आवश्यक कार्यवाही जरूर करेंगे, इससे पहले अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर में युद्धाभ्यास करके चीन को उकसाने की कोशिश की थी.